Showing posts with label Self Improvement. Show all posts
Showing posts with label Self Improvement. Show all posts

Dr A.P.J Abdul Kalam Ki Boigraphy In Hindi

Boigraphy of Dr APJ ABDUL KALAM

is post me dr apj abdul kalam ke bare me bataya gaya hai unhone kaise apne aim ko pura kiya aur apne country ka nam rausan kiya.

Dr APJ Abdul Kalam

Dr APJ KALAM KE BARE ME

tamilnadu ke madhyavargiy parivar me kalam ka janm 15 october 1931 Ko hua tha.Jinka pura nam abdul pakir janulabdin abul kalam tha.inake pita ka nam jaulabdin jo machhuaro ko kiyare par navo ko dete the.inko bachpan se hi paylat bnane ka sapna tha.apne is sapne ko sakar karne ke liye inhone akhbar tak Becha tatha muflici me bhi apni padhai ko jari rakhi. Aur sanghars karte hue uchch siksha hasil kar Paylat ki exam me associate hue.us exam me pass hone ke bavjud bhi inka selection nahi ho saka kyoki us exam me keval eight paylato ka selection hona tha. Aur safal candidates ki list me unaka ninth palace tha.is ghatana se nirash hokar inhone har nahi mani aur dridh nischay ke bal par inhone esi success ko prapt kiya jinke samane paylato ki udane tuchchh najar aati hai.

His Education

unka vayktitva ek tapasvi aur Karmyogi ka raha.unhone sanghars karte hue prarambhik shiksha rameshwaram ke prathmic school se prapt karne ke bad ramnathpuram ke sawartj highschool se matriculation kiya.isake bad ye high education ke liye tiruchirapalli chale gaye.vahan ke sent josef college se B.Sc ki upadhi prapt ki.B.Sc karne ke bad 1950 me inhone madras institute of technology se aeronautical engineering me Diploma kiya.
apne education pura karne ke bad dr kalam ne hovarkraft organisation aur vikas sansthan me praves kiya.isake bad 1962 me ve india ke antrichh anusandhan sanghtan me aaye,jhan unahone saflatapurvak kai upgrah prachhepan pariyojnao me apni mahatwapurn bhumika nibhai.Pariyojna nidesak ke rup me bharat ke pahale svadesi upgrah prachhepan yan SLV-3 ke nirman me bhi unhone mahatvapurn bhumika nibhai.Isi prachhepan yan se july,1980 me rohini upgrah ka antriksh me saflatapurn prachhepan kiya gaya.1982 me ve bhartiya raksha anisandhan evam vikas sanghtan me vapas nidesak ke taur par aaye tatha apna sara dhyan gaidede missile ke vikas par kendrit kiya.Agni missile evam prithvi missile ke safal parichhan ka shrey bhi inhi ko jata hai.Us mahan vyaktitva ne bharat ko anek missiles pradan kar isake samrik dristhi se itana sampann kar diya ki puri duniya inahe 'Missile Man' ke nam se janlagi.

Success of Life

july,1922 Me ve bhartiy raksha mantralay me vaigyanik salahkar select hue.unaki dekhrekh me bharat ne 1998 me pokhran me dusara safal parmanu test kiya aur parmanu shakti sampann rastro ki list me samil hua.san 1963-64 ke dauran kalam ne America ke antriksh sanghtan NASA Ki bhi yatra ki.vaighyanik ke rup me karya karne ke dauran alag alag pranaliyo ko akkrit rup dena unaki quality thi.

Dr Kalam ke uplabdhiyo ko dekhate hue bharat sarkar ne unahe 1981 me padambhusan aur 1990 me padam bibhusan se sammanit kiya.1997 me bharat ke sarvochh nagrik samman 'BHRAT RATN' se sammanit kiya gaya.
ek din esa bhi aya jab inako bharat ke sarvochh pad par 26 july 2002 ko gyarhve president ke rup me padbhar saupa gaya.inhone is pad ko 25 july 2007 tak susobhit kiye.ve parliament ko susobhit karne wale pahme insan hai.Is dauran inhone kai deso ka daura kiya aur apne vyakhyano dvara des ke naujvano ka margdarsan karne aur unahe prerit karne ka mahatvapurn karya kiya.ye kuran aur gita dono ka adhyan karte the.ye sudh sakahari the.kalam ne tamil bhasa me kavitaye bhi likhi.jiska anuvad pure world ki kai language me ho chuka hai.aur inhone kai pusatako kirachana ki jaise 'ignited minds','India my Dream','Wings of Fire'.Inhone bahut achhi sandesh diya stundents aur sabhi logo ko.

Kalam ne Kaha Tha


  • 1-Chalo ham apna aaj kurban karte hai taki hmare bachcho ko behtar kal mile
  • sapne sach ho isake liye sapne dekhna jaruri hai.
  • Students ko hmesa question karte rahana chahiye kyoki prasn karna students ka sarvottam gun hai.
  • First Impression is the Last Impression.
  • Your Best Teacher is Your Last Mistake.
  • You can not change your future.But you can change your habbit and surly Your habbit change your Future.

Finally:-

Kalam ne hamare Bharat ke liye bahut kuch kiya hmare ckuntry ko raksha ke mamle me aaye badhya.jisase hmare country par ab kisi bhi dusman country ka hmle ka dar nahi hai.Hame aur apko unaki achchaiyo se sikh leni chahiye.
to dosto apko meri ye post kaisi lagi comment me jarur bataye aur post ko apne friends ke sath share jarur kare.

How To Make People Like You By Dale Carnegie?

How To Make People Like You ?

Every person think how to influence any people like teachers,boss,friends etc.
But they could not get a best way as many people do not know about the book of Dale carnegie.
So I thought I can share some topics of these books on my site for help of people.
here we are sharing to six ways to make people like you. It way given by dale carnegie.

#Principle-1 "Become Genuinely Interested In Other People"

if you want others people to like you,If you want develop real friendships,if you want to help others at the same time as you help yourself,keep this principle in mind.

Dale carnegie

#Principle-2 "Smile"

your smile is a massenger of your good will. Your smile brightness the lives of all who see it. It creates happinees in the home,fosters good will in a business, and is the contesting of friends.
It is rest to the weary,daylight to the discouraged,sunshine to the sad, and Nature's best antidote for trouble.

#Principle-3 "Remember that a person's name is to that person the sweetest and most important sound in any language.

The name sets the individual apart; it makes him or her unique among all others.The information we are imparting or the request we are making takes on a special importance when we approach  the situation  with the name of the individual. From the waitress to the senior executive,the name wil work magic as we deal with others.
We should be aware of the magic contained in a name and realise that this single item is wholly and completely owned by the person with whom we are dealing.... and nobody else.
When you are calling any person with her name he impress with you. It is a very simple way to impress any person.
We should never forget it.

#Principle-4 "Be a Good Listener .Encourage others to talk about themselves."

If you aspire to be a good conversationalist ,be an attentive listener.To be interesting,be interested Ask questions that about person's wil enjoy answering. Encourage  them to talk about themselves and their accomplishments.
Remember that the people you are talking to are a hundred times more interested in themselves and their wants and problems than they are in you and your problems.

#Principle-5 " Talk in Terms of Others Person's Interests."

#Principle-6 "Make the Other Person Feel Important-and do it Sincerely. "

The life of many a person could probably be changed if only someone would make him feel important.
Remember what Emerson said:everything man I meet is my superior in some day. In that,I learn of him.
The Universal truth is that almost all the people you meet feel themselves superior to you in some way,and a sure day to their hearts is to let theme realise in some subtle way that you realise their importance,and recognise it Sincerely.

Fundamental Techniques In Handling People

  • Don't criticise,condemn or complain
  • Give honest and sincere appreciation.
  • Arouse in the Other Person an eager want.

How To win People to Your way of Thinking.

  • The only way to get the best of an argument is to avoid it.
  • Show respect for the Other person's opinions.Never say,'You're wrong.'
  • If you are wrong, admit it quickly and emphatically. 
  • Begin in a friendly way.
  • Get the Other Person saying 'yes,yes'imediately.
  • Let the Other Person do a great deal of the talking.
  • Let the Other Person Feel that the idea is his or hers.
  • Try honesty to see things from the Other person's point of view. 
  • Be symphatically with the Other person's ideas and desires.
  • Appeal to the nobler motives.
  • Dramatize your ideas.
  • Throw down a challenge.

Be a leader :How to change people without  giving offence or arousing  resentment

  • Begin with praise and honest appreciation.  
  • Call attention to people's mistakes indirectly. 
  • Talk about your own mistakes before criticising the Other Person. 
  •  Ask questions instead of giving direct orders. 
  •  Let the Other person save face. 
  •  Praise the slightest improvement and praise every Improvement.Be 'hearty in your approbation and lavish in your praise. 
  •  Give the Other person a fine reputation to live up to. 
  • Use encouragement. Make the fault seen easy to correct. 
  •  Make the Other Person happy about doing the thing you suggest.  

Now I am stopping the principle. I think it will good for you.
You spend your time on my site so thank you.

प्यार क्या है ? Deeply Understand What Is Love

Deeply Understand What Is Love

Emotion_Quote_In_Hindi


प्यार की कोई एक निश्चित Philosophy नहीं है। प्यार को अनेकों तरीके से समझा जा सकता है लेकिन फिर भी प्यार को हम पूरी तरह से समझ नहीं सकते। अगर हम जीवित प्राणियों की बात करें तो वो एहसास ही है जो इस संसार में हर एक सच्चे रिश्ते को बनाये रखा है। प्यार कोई मानसिक अवस्था नहीं है और न ही प्यार कोई भावना है जिसे मिटाया या पैदा किया जा सके। 
इस पोस्ट को पढ़कर आप समझ जायेंगे और बहुत अच्छे से समझ जायेंगे की दरअसल जिसको आप प्यार समझते हैं वो प्यार है भी या नहीं। 

1. जिसको छोड़ने का मन न करे वो प्यार है ፦ एक शराबी को भी शराब छोड़ने का मन नहीं करता है तो क्या उसको शराब से प्यार है। उसको तो शराब से नफरत है वो शराब को चाह कर भी नहीं छोड़ पा रहा है। उसको शराब से प्यार नहीं Addiction है और Addiction जहाँ होता है वहाँ इंसान केवल अपने बारे में सोचता है किसी दूसरे इंसान की उसे कोई परवाह नहीं होती है तो क्या Addiction प्यार है ? (विचार कीजिये)


2. जिसके बारे में हम हमेशा सोचते है वो प्यार है ፦ क्या सोचना प्यार है, क्या हमेशा किसी के खयालो में दुबे रहना प्यार है ? हम यदि किसी इंसान या चीज के बारे में हमेशा सोचते रहते हैं तो इसका मतलब हमे उससे Attachment है, तो क्या Attachment प्यार है ? Attachment यानि ये मेरी पत्नी है, ये मेरा बच्चा है, ये मेरी चीज है इसका मतलब यदि आप किसी से भी Attached है तो आपने अपने मन में उसके ऊपर कब्ज़ा कर लिया है तो क्या कब्ज़ा करना प्यार है ? (विचार कीजिये)

3.  उसे देखते ही प्यार हो गया ፦ जब हम किसी को देखते है तो दिमाग में Dopamine हार्मोन निकलता है जिससे शरीर में हार्मोनिक बदलाव होने लगता है, तो क्या हार्मोनिक बदलाव प्यार है ? हमने अपने Mind में एक Image बना रखी है और उस Image से हमें लगाव है उसे देखकर हम खुश होते है, और जब हमे कोई इंसान उस Image से Related मिल जाता है, तो हम ये कहते है कि हमे उस इंसान से प्यार है जबकि प्यार तो हमे उस Image से है जो दिमाग में पड़ी हुई है। जिसे हम प्यार समझ रहे हैं वो प्यार तबतक ही रहेगा जबतक वो इंसान बिलकुल वैसा ही रहेगा जैसा हम चाहते है या जैसी Image हमारी Mind में पड़ी हुई है, तो क्या किसी को अपने हिसाब से रखना प्यार है या जो जैसा है उसे वैसे ही स्वीकार करना प्यार है। (विचार कीजिये)

4. मुझे पढाई से प्यार है ፦ क्या हमे पढाई से प्यार है ? हमे पढाई से प्यार कहाँ है ? हमे तो Top करने से प्यार है यदि पढ़ने और ना पढ़ने का Option होता तो क्या आप पढ़ते। आप तो अपने Ego को Satisfied करने के लिए पढ़ रहे हो। दुसरो को पढाई में पीछे छोड़कर, उनसे जीत ये कहँ रहे हो कि मुझे पढाई से प्यार है। क्या किसी से जितना प्यार है ? मान लो आपके और आपके Parents के बिच Argument हो रही है, तो क्या उस Argument में उनको नीचा दिखाना और उनसे जीतना प्यार है। (विचार कीजिये)

5. किसी के साथ यदि आपको अच्छा फील होता है तो क्या ये प्यार है ፦ क्या Feeling प्यार है, आप कहँ रहे हो मुझे उसके साथ बहुत अच्छा फील होता है, मै उसके साथ बहुत खुश रहता हूँ और उसको भी ऐसा फील होता है। आप इस अच्छी Feeling को प्यार कहँ रहे हो। मान लो कुछ समय बाद ये Feeling आनी बंद हो गई और ये Feeling अब किसी और से मिलने लगी अब आप ये कहोगे की पहले मुझे उससे प्यार था अब इससे प्यार है। फिर कुछ समय बाद किसी और से तो क्या Feeling प्यार है ? Feeling Temporary होती है कभी आती है कभी नहीं आती लेकिन प्यार Permanent होता है जो कभी भी ख़त्म नहीं होता है। अगर Feeling से आप Attached हो जाओगे तो आपकी जिंदगी बहुत जल्द ही नर्क हो जाएगी। जिन लोगो को कोलेस्ट्रॉल कि बीमारी है और जिनका वजन बहुत अधिक है, डॉक्टरो ने उन्हें तेल वाली चीजे खाने से मना कर दिया है। लेकिन फिर भी वो लोग इस खाने को छोड़ नहीं पा रहे है क्योंकि तेल वाले खाने से टेस्ट आ रहा है, Feeling आ रही है, मजा आ रहा है तो क्या मजा प्यार है ? वही लोग जो पहले एक दूसरे के पीछे लैला-मजनू की तरह पागल थे उनके Divorces हो रहे है। कोट-कचहरी में वो एक दूसरे की धज्जिया उड़ा रहे है की मै तो तुम्हे बर्बाद कर दूंगा, मै तुम्हे बर्बाद कर दूंगी। क्या ये सब चीजे प्यार से आती है ? क्या जहाँ पर प्यार होता है वहाँ पर नफरत की गुंजाईस भी होती है ? (विचार कीजिये)

6. मुझे अपने देश से प्यार है ፦ ये बात हम बहुत गर्व से कहते है मै अपने देश से प्यार करता हूँ क्या सच में आप अपने देश से प्यार करते है। देश मतलब क्या यहाँ की नदियाँ, लोग, तालाब, पहाड़, सड़के, गांव, शहर, जंगल, पशु-पछी, रेगिस्तान, इत्यादि। अगर देश से प्यार होता तो लोग सड़क पर कचड़ा नहीं फेकते, अगर देश से प्यार होता तो लोग आपस में भेद-भाव नहीं करते, यदि देश से प्यार होता तो लोग गांव-शहर में भेव-भाव नहीं करते, यदि देश से प्यार होता तो लोग पर्यावरण को दूषित नहीं करते, अगर आपको देश से प्यार होता तो आप सबको सामान दृष्टि से देखते। तो क्या जो हम सभी कर रहे है अपने देश के साथ, इस Nature के साथ, लोगो के साथ... ये प्यार है। (विचार कीजिये)


Love_Quote_In_Hindi


7. कौन मुझे समझेगा ፦ आप ये Expect कर रहे हो की कोई कहीं से आएगा और आकर आपको समझेगा लेकिन जरा सोचिये क्या आप अपने आप को समझते है ? आप किसी और से ये Expect कर रहे हैं की कोई आपको समझेगा, आप किसी और से ख़ुशी Expect कर रहे हैं, आप किसी और से प्यार Expect कर रहे हैं, आप अपने जीवन की हर एक चीज किसी और से Expect कर रहे है तो क्या Expectation प्यार है ? 
जिसे आप प्यार कहँ रहे होते है वहां कोई न कोई आपका अपना Selfish Motive होता है। अपने अंदर झाँक कर देखिये आपको समझ आ जायेगा। लेकिन यदि आपके अंदर कोई Selfish Motive ना हो तब जाकर आप प्यार करने के लायक बन सकते है। तब जाकर आप ये देख सकते है की सामने वाले इंसान की जरुरत क्या है, तब जाकर आप सामने वाले इंसान की Care कर सकते है। तभी जाकर आप किसी को ख़ुशी दे सकते है जब आप पूरी तरह से खुश हों... इसका मतलब यदि आप प्यार ढूंढ रहे है तो आप प्यार कर नहीं सकते। और यदि आपने अपने अंदर ही प्यार और ख़ुशी का Source विकसित कर लिया, तो आपको सबसे और सबको आपसे प्यार हो जायेगा। 


8. क्या Expectation का न होना प्यार है ፦ आप यदि किसी के साथ Relation में हो और आप यह कहँ रहे हो की मुझे तुमसे कोई Expectation नहीं है और तुम भी मुझसे कोई भी Expectation मत रखना, तो ये प्यार है ? क्या जहाँ पर Expectation नहीं होता वहाँ सच्चा प्यार होता है। अगर आप किसी को Free छोड़ दे रहे हो और उससे ये कहँ रहे हो की तुम जो चाहों वो करो, तो वह तो कुछ कर सकता है, उसको तो कुछ भी पसंद हो सकता है। और अब आप उसे कुछ भी करने से इसलिए मना नहीं करोंगे क्योंकि आप इसे प्यार समझ रहे हो। तो क्या किसी को खुला छोड़ देना प्यार है ?
मान लो एक इंसान जिसने Expectation के ना होने को प्यार समझ कर अपने बेटे से ये कहँ दिया की तुम जो चाहो वो करो अब, और उस लड़के ने पढाई छोड़ दी, इधर-उधर घूमने लगा, तास-पत्ते खेलने लगा, सिगरेट-शराब पिने लगा। लेकिन उसके माता-पिता उसे ये सब करने से रोक नहीं रहे हैं, तो क्या ये प्यार है ? 
मान लो आपके के Husband घर में बच्चो के सामने सिगरेट-शराब पीते हैं, आपका और आपके बच्चो का Care नहीं करते, रोजाना शराब के नशे में आपको और बच्चो को पीटते हैं और आप उनके विरुद्ध कोई भी Action नहीं ले रहे हो, तो क्या ये प्यार है ? Expectation का होना Problem नहीं है Unrealistic Expectation का होना प्रॉब्लम है। Expectation हमेशा Realistic होना चाहिए। 

9. किसी को समझना प्यार है ፦ क्या हम किसी को समझते हैं जब भी लड़ाई-झगड़ा या Argument होता है तो हम सामने वाले को अपनी बात समझा रहे होते हैं, उससे अपनी बात मनवाना चाहते हैं। तो क्या किसी को समझाना प्यार है या किसी को समझना प्यार है। (विचार कीजिये)
हम किसी भी इंसान को, किसी भी Situation को, किसी भी चीज को तभी समझ सकते हैं जब हम उसे बिलकुल वैसे देखें जैसा वो है... जैसे एक Scientist देखता है, Scientist चीजों को बारीकी से देखता है और सिर्फ देखता है। तब जाकर उसे वो दिखता जो वास्तविक है, तब जाकर Discovery होती है। आप चीजों को देख रहे हैं और देख कर कुछ सोच रहे हैं और एक तरफ है आप सिर्फ देख रहे है, दोनों में कुछ अंतर है या नहीं। (विचार कीजिये)

10. जो चीज आकर आपके दिल से जुड़ गई। उसे प्यार कहते हैं, उसे कनेक्शन कहते हैं, उसे सम्बन्ध कहते हैं। मै Physical Heart की बात नहीं कर रहा हूँ। मै दिल की बात कर रहा हूँ जहाँ से आपके सारे Dream, आपके सभी Desire, आपके Like-Dislike, आपकी Feeling, आपके Emotion की शुरुआत होती है। और वो Word है I (मै), ये I ही हम सबका Center Point है, ये नहीं तो कुछ भी नहीं। और जो कोई भी आपके इस I की Definition में आ गया उससे आपका Relationship बन गया। एक जगह है जहाँ प्यार करना पड़ता है और एक जगह है जहाँ प्यार होता है। माँ और बेटे में भाई और बहन में प्यार होता, प्यार करना नहीं पड़ता.... जहाँ पर भी हम कुछ करते है वहाँ Fail होने की, गिरने की सम्भावना होती है और इसलिए Breakup होते हैं। लेकिन माँ और बेटे में कभी Breakup नहीं हो सकता। क्योंकि माँ की जो  मै की Definition है, जो Center Point है उसके अंदर ही उसका बच्चा आ जाता है। मतलब वो बच्चा उस माँ के दिल का भी दिल है इसलिए वहां प्यार होता है, प्यार करना नहीं पड़ता। और ये जहाँ पर I Love You और I Love You Too होता है वहां कोई प्यार-वार नहीं होता, वहां सिर्फ खुजली होती है दोनों को....  की तुम मुझको खुजलाना और मै तुमको खुजलाऊंगा। लेकिन जब ये You, I के अंदर आ जाता है, I के Definition में आ जाता है तो वहां प्यार होता है, प्यार करना नहीं पड़ता।  

Real Also :
1. अपने इमोशन को कैसे समझे / Emotional Intelligence In Hindi
2. communication skill को बेहतर बनाने के 5 Tips In Hindi
3. Relationship Me Hone Wali Problems kya hai
4. Student life ki sabse badi problem kya hai ?

निवेदन : इस लेख के बारे में आपके क्या विचार हमे जरूर बतायें। शेयर करें अपने दोस्तों और परिवार के साथ, आपने इस लेख पर अपना कीमती समय दिया इसके लिए आपको धन्यवाद।

communication skill को बेहतर बनाने के 5 Tips In Hindi

Communication Skill Tips In Hindi

communication_skill_hindi

Communication Skill एक ऐसी हुनर है जो आपके अंदर होनी ही चाहिए... Communication Skill आपके Personal Life और Professional Life दोनों के लिए कतई जरुरी है। और किसी से भी बात करने के लिए आपको दो चीजे आनी चाहिए पहला 'क्या बोलना है' और दूसरा कैसे बोलना है'' और ये चीज सिखने में जिंदगी बीत जाती है.... इसलिए Communication Skill का सारा खेल Courtesy यानि विनम्रता पर टिका हुआ है। इस पोस्ट में हम Communication Skill से सम्बंधित कुछ बाते आपके साथ शेयर करेंगे। 

1. Good Listener :

आज के इस बिजी दुनिया में लोगो के पास समय ही नहीं रहता है। किसी कि बात सुनने के लिए लेकिन बोलने के लिए समय सबके पास है, सलाह देने के लिए तो सभी तैयार बैठे हैं। ऐसा इसलिए क्योंकि जब हम किसी को सलाह देते हैं तो अपने आप को Important Feel करते हैं लेकिन अगर आप चाहते हैं की लोग आपको पसंद करे और आप की बात सुने तो बोलिये कम सुनिए ज्यादा और अगर आप हमेशा बोलते ही रहते हैं तो याद रखिये लोगो के पास आपकी बात सुनने के लिए समय नहीं रहेगा। एक अच्छा Communicator वह होता है जो लोगों को बोलने के लिए प्रोत्साहित करता है। सामने वाले को बोलने का मौका देता है और उसकी बात सुनता है, और यदि आप चाहते है की कोई दुबारा आप से बात करें तो किसी को बिना मांगे सलाह मत दीजिये और कभी भी किसी को सही-गलत का पाठ मत पढ़ाइये। जब कोई आपसे अपनी बात कह रहा हो तो उसकी बात सुनिए और सिर्फ सुनिए। 

2. Use Thank You, Sorry And Please 

एक फिल्म आयी थी जिसमे हीरो कहता है '' दोस्ती का एक वसूल है No Sorry, No Thank You . लेकिन यदि आप चाहते है की आपकी दोस्ती अच्छे-सच्चे और बड़े लोगो के साथ हो तो Sorry, Thank You और Please इन तीनो शब्दों का प्रयोग कीजिये और जरुरत से ज्यादा कीजिये.... जरुरत से ज्यादा मतलब जहाँ जरुरत नहीं भी हो वहां पर इन शब्दों का पयोग कीजिये। अब कुछ लोग ऐसे होते है जो इन शब्दों का प्रयोग इसलिए नहीं करते क्योंकि इससे उनका ईगो हट होता है और इसलिए समाज में भी उनकी कोई खास Respect नहीं होती है। जितने भी बड़े लोग हैं, जिनका लोग Respect करते हैं वो सभी लोग बड़े लोग इसलिए है क्योंकि उनके अंदर विनम्रता है और वो सभी लोग इन शब्दों का बहुत ज्यादा इस्तेमाल करते हैं। इसलिए आपको भी सबके साथ नम्रतापूवर्क (Politely) व्यहार करना चाहिए। Politeness का बेस्ट Example हैं महात्मा गाँधी और डॉ एपीजे अब्दुल कलाम और ऐसा क्यों वो आप सभी जानते हैं। 

3. Smile :

एक Smile 1000 वर्ड के बराबर होती है। जब भी आप किसी से मिलें तो आप के चेहरे पर एक Genuine Smile होनी चाहिए। ये चीज सामने वाले को आपके साथ Safe और Happy Feel कराती है। जब हम किसी को देखकर Smile देते हैं तो इसका मतलब हम उस इंसान से कह रहे होता हैं कि 'आप मुझे पसंद हैं, 'आप से मिलकर मुझे अच्छा लगा, 'आपको देखकर मुझे ख़ुशी हुई.... मै आपसे दुबारा मिलना चाहूँगा। और इसलिए आपके Smile से सामने वाले के चेहरे पर भी Smile आ जाती है। 

Communication_Skill_Tips_In_Hindi

4. Eye Contact :

किसी से बात करते समय Eye Contact जरूर होना चाहिए। पर Eye Contact ऐसा भी न होना चाहिए की सामने वाले को लगे की आप उसे घूर रहे हैं... इससे सामने वाला व्यक्ति Uncomfortable Feel कर सकता है। सही Eye Contact का मतलब होता है, सामने वाले इंसान की आँखों कि तरफ देखना या चेहरे की तरफ देखना... इससे सामने वाले व्यक्ति को ऐसा लगता कि आप उसकी बातों में Interested हैं। और यदि आप बात करते समय या सुनते समय इधर-उधर देखेंगे तो इससे सामने वाले व्यक्ति को ऐसा लगेगा कि आप उसे Ignore कर रहे हैं। जिससे उसे बुरा Feel होगा और इसलिए शायद वह आपसे वो बात ना कहें जो बात वो आपसे कहने की इच्छा रखता था। Eye Contact का सबसे बड़ा फायदा ये होता है की हमें ये बात पता चल जाती है की सामने वाले की बात में कितनी सच्चाई है और वो किन Emotion के साथ अपनी बात कहँ रहा है।

5. Be Confident :

जो भी बोले उस पर विश्वास करें... और आप अपनी बात Confidence के साथ तभी कहँ सकते है जब आपको उस Topic के बारे में पता होगा जिसकी आप बात कर रहे हैं या जिस बारे बात हो रही है। और इसलिए हमेशा New Information से Updated रहें, लेकिन यदि सामने वाला व्यक्ति कोई ऐसी चीज के बारे में बात कर रहा है जिसके बारे में आपको कुछ नहीं पता.... तो वहां अपने आप को इस तरह से Confidence न दिखाए जैसे की आपको सब पता है क्योंकि बिना Subject Knowledge का Confidence... Over Confidence कहलाता है। और इसलिए आप वहां उस व्यक्ति से अच्छे से उस Topic की जानकारी लेलें। 

निवेदन : इस लेख के बारे में आपके क्या विचार हमे जरूर बतायें। शेयर करें अपने दोस्तों और परिवार के साथ, आपने इस लेख पर अपना कीमती समय दिया इसके लिए आपको धन्यवाद।

अपने इमोशन को कैसे समझे / Emotional Intelligence In Hindi

Emotional Intelligence By Daniel Goleman

Emotional_Intelligence_In_Hindi

Emotional Intelligence क्या है 

INTELLIGENCE दो प्रकार का होता है | Intellectual intelligence (IQ) और Emotional Intelligence (EQ) . जीवन में सफल होने के लिए जितना जरुरत IQ का है उतना ही जरुरत EQ का है | Emotional Intelligence होने का मतलब है अपनी और दूसरों के भावनाओ (emotion) को समझना और उसे अच्छे से manage कर पाना | अब समस्या ये है की ज्यादातर लोगो को लगता है की हम इंसान बहुत ही logical creature है जो अपना सभी निर्णय logic से लेते है जो एकदम सही नहीं है |
EXAMPLE : अगर किसी के घर में आग लगी हो तो वो ये नहीं सोचेगा की आग ज्यादा है या कम है, मुझे अंदर जाना चाहिए या नहीं बल्कि वो बिना कोई Logic लगाए और अपनी जान की परवाह किये बिना घर में घुस जायेगा अपनी Family को बचाने के लिए | वो ऐसा इसलिए करेगा क्योंकि वो अपने परिवार से भावनात्मक रूप से जुड़ा हुआ है और अगर उसकी जगह हम होते तो हम भी यही करते | 
AUTHOR कहते है हम सब इंसान Emotional Creature है जो अपना ज्यादातर Decision इमोशन से प्रभावित होकर लेते है, न की Logic से | लेकिन बहुत बार ऐसा होता है की लोग इमोशन में आकर कोई ऐसा निर्णय ले लेते है जो ज्यादातर समय सही नहीं होता उनके लिए वो ऐसा इसलिए करते है क्योकि वो अपने इमोशन को कंट्रोल और मैनेज नहीं कर पाते | हम इंसान अपने इमोशन को एकदम से कंट्रोल तो नहीं कर सकते लेकिन अच्छी बात ये है की हम कुछ बातो पर ध्यान रखकर अपने इमोशनल इंटेलिजेंस को बढ़ा सकते है | AUTHOR द्वारा बताये गए प्रिंसिपल में से कुछ इम्पोर्टेन्ट प्रिंसिपल को आपके साथ शेयर कर रहा हूँ |

1. Self Awareness

SELF AWARENESS मतलब अपने आप को एकदम अच्छे से जानना, ये जानना कि आप के Weak Point क्या है Strong point क्या है, आपका व्यहार कैसा है, आदते कैसी है, कैसे लोग पसंद है ?और हमेशा ये पता होना की आप कैसा महसूस कर रहे हैं | अपने आप को एकदम अच्छे से जानने और अपने प्रति जागरूक रहने के लिए आप अपने भावनाओं पर ध्यान देना शुरू कीजिए.
जैसे की मान लीजिये की आप अपने काम पर है और आपकी बातों को एक मीटिंग में ठुकरा दिया जाता है | जब यह होता है तो आपके मन में कैसी भावनाएँ उत्पन होती है | यही दूसरी तरफ अगर आपकी तारीफ होती है तो उस समय आपके मन में कैसी भावनाएँ होती है ? सोने से पहले और जागने के बाद की आपकी भावनाएँ कैसी होती हैं ? दुःख में, परेशानी में, कष्ट में, ख़ुशी में, आपकी भावनाएँ किस प्रकार की होती है ? आपकी भावनाएँ आपकी परिस्तिथि के बारे में आपको कैसा महसूस करा रही है ? सकारात्मक या नकारात्मक इस पर ध्यान दीजिए | आपका E Q बढ़ना शुरु हो जाएगा |

2. Managing Emotion

एक आदमी Bike से कही जा रहा था, तभी अचानक उसके एकदम पास से एक कार बहुत तेज रफ़्तार से निकली | वह आदमी एकदम डर गया और उसे उस कार वाले पर बहुत गुस्सा आया | वह चिल्ला-चिल्ला कर उस कार वाले को गाली देने लगा, लेकिन जब उसे पता चला की उसकी आवाज कार तक नहीं पहुँच रही है, तो उसने गुस्से में बाइक का गियर बढ़ाया और कार के पास पहुँच कर रोड के गलत साइड में गाड़ी चलाने लगा ताकि वह चिल्ला सके और गाली दे सके | तभी सामने से आती एक कार से उसका Accident हो गया | जिससे वह बच नहीं पाया और उसकी मृत्यु हो गयी उसके अपने गुस्से की वजह से | 
हम इंसान अपने Emotion को एकदम से कंट्रोल नहीं कर सकते खासतौर पर गुस्से को जो हमें करना भी नहीं चाहिए | लेकिन गुस्सा आने के बाद उससे जल्द से जल्द बाहर आ सकते है | एक टेक्निक जिसका प्रयोग करके आप यह कर सकते है उसे कहते है ' REFRAMING ' मतलब सिचुएशन को अलग नजरिए से देखना | 
EXAMPLE : उस आदमी को गुस्सा आया होगा जब उसने यह सोचा होगा की कार चलाने वाला हीरो बनने की कोशिश कर रहा है या शो ऑफ कर रहा है | लेकिन अगर उसने इसकी जगह कुछ ऐसा सोचा होता की शायद इसको कोई बहुत जरुरी काम होगा, इसलिए इतनी तेज कार चला रहा है | शायद कोई मेडिकल एमर्जेन्सी होगी या कोई बहुत बड़ी प्रॉब्लम होगी जहाँ इसको जल्दी पहुंचना जरुरी होगा | अब उसका ऐसा सोचना 100 % गलत हो सकता है लेकिन इससे उसकी जान बच जाती | 
emotion_balance_in_hindi
BOOK के Author कहते हैं की हमें अपने इमोशन को मैनेज करने के लिए चीजों को Positive लेना चाहिए  | बिना ये सोचे की हम सहीं है या गलत | जो इंसान अपने इमोशन को समझ और मैनेज कर सकता है वो दुसरो के इमोशन को भी समझ और मैनेज कर सकता है | 

EXAMPLE : अगर आपसे कोई गुस्से में बात करे, चाहें वो सहीं हो या गलत हो | आप उसकी बात दो मिनट तक सुन लें बिना कुछ बोले, उसका गुस्सा कम हो जाएगा |
पहले जब मै उदास होता था या Weak फील करता था तो Sad Song सुनता था | जो मुझे और Sad और  Energy Less फील कराते थे, लेकिन अब मै ऐसा नहीं करता हूँ | आप जब भी Sad या Weak करें तो कुछ ऐसे गाने सुने जो आपको अच्छा और Happy फील करायें न की और Weak और Down . कुछ भी ऐसा करे जो आप को अच्छा फील कराते है | अपने इमोशन को मैनेज करना सीखे ना की इमोशन के फ्लो में बह जाएं।

3. Empathy

टोलु नाम का लड़का जब किसी को रोते हुए देखता है तो वह रोटा है। टोलु रोया क्योंकि उसे दूसरे इंसान का दर्द Feel हुआ। Empathy  मतलब है कि दुसरो के emotion को अपना emotion समझना और यह समझ पाना कि दूसरा व्यक्ति कैसा Feel कर रहा है। हम लोगो के emotion को उनके चेहरे तथा अन्य हाव-भाव को देख कर जान सकते हैं। अब ज्यादातर लोगो में Empathy कम और Sympathy देखने को ज्यादा मिलता है जो ज्यादातर लोग आप को Social Media Site पर करते हुए मिल जायेंगे। Sympathy मतलब दुसरो पर तरस खाना ना Empathy दिखाकर उनकी भावनाओं को समझना और उनकी हेल्प करना। 

emotional_quote_in_hindi




किसी से बात करने से पहले या कुछ कहने से पहले देखिये की सामने वाले के Emotion कैसे हैं। कहीं ऐसा न हो कि कोई बहुत अधिक परेशान हो और आप उसके पास जाकर चिल्ला-चिल्ला कर बात करने लगे, या उसके साथ मजाक करने लगे जिससे की वह और परेशान हो जाये और उसको गुस्सा आ जाये। या कोई बहुत अधिक खुश और उत्साह में हो और आप उससे कुछ इस कि बातें करे कि उसकी खुशी छीन जाये। तो कृपया किसी के भावनाओं को ठेस न पहुँचाये। इससे सामने वाले की नजर में आपका बहुत बुरा Image बन सकता है क्योंकि लोग ये भूल जाते हैं की आपने उनसे क्या बाते की लेकिन वो ये चीज कभी नहीं भूलते की आपने उन्हें कैसा Feel कराया। इसलिए आगे से किसी से बात से पहले उसके Emotion को समझिये या किसी से गुस्से से बात करने से पहले, किसी को अपमानित करने से पहले, या कोई भी ऐसा काम करने से पहले जिससे किसी को दुःख हो, ये सोचिये की अगर आपके साथ ऐसा होता तो आपको कैसा लगता या कोई आपके साथ ऐसा करता तो आप को कैसा लगता। ये चीज आपको बहुत अधिक हेल्प करेगी Emotionally Intelligent बनने में। 

4. Building Relationship

एक बार अमेरिका और वेट नाम के सैनिको के बीच वॉर चल रहा था। वहाँ बीच में एक रास्ता था और दोनों तरफ चावल की फैसले थी जिनमे वे छुप कर गोलिया चला रहे थे, डेविड अपने सैनिको के साथ छुपकर फायरिंग कर रहे थे। तभी अचानक रस्ते पर कुछ बुद्धिस्ट आ जाते है वो एकदम शांत होकर चल रहे होते है जैसे कुछ हो ही नहीं रहा हो। उन्हें देखकर दोनों तरफ से फायरिंग रुक जाती है। लेकिन उनके जाने के बाद डेविड को और उनके सैनिको को लड़ने का मन नहीं करता है और डेविड बतातें हैं। वेट सैनिको को भी कुछ ऐसा ही फील हुआ क्योंकि उनके जाने के बाद उन्होंने वापस फायरिंग नहीं की और वो चले गए।

emotions_in_hindi


ऐसा इसलिए हुआ क्योंकि Emotion Contagious होते हैं जो एक इंसान से दूसरे इंसान में आसानी से Transfer हो जाते हैं। EXAMPLE : अगर कोई बच्चा हमे हँसकर देखता है तो हम भी उसे बदले में हंसकर देखते हैं। इसलिए हमेशा अच्छे Emotion के साथ लोगो से मिलिए ये चीज उनको अच्छा और आपके साथ Safe फील करायेगी।

NOTE : यह लेख Emotional Intelligence by Daniel Goleman बुक से लिया गया है। 

मेरे विचार :

1. अपने दिमाग में किसी भी चीज, किसी भी स्थान, किसी भी इंसान या किसी भी रिश्ते को Value मत दें। इन चीजों को दिल में रखिये इन्हें दिल से बनाइये दिमाग से नहीं क्योंकि दिमाग से जो चीजें बनती है। दिमाग उसे समय के साथ तोड़ देता है, उस चीज की कीमत होती है, उसका दाम लगाया जाता है। आप इस दुनिया में कोई भी चीज या रिश्ते को देख लो जो दिमाग से बना है, वो चीज और वो रिस्ता ख़त्म हो गया है समय के साथ , लेकिन जो चीजे दिल से बनी है वो Timeless है, Priceless है। उन चीजों का कोई दाम नहीं लगा सकता वो अमर हैं और इसका सबसे बढ़िया Example ताजमहल है।

2.  जिंदगी में कभी उदास मत रहो यारों हँसने का मन करे तो हँसो, रोने का मन करे तो रोयो बस उदास मत रहो। बस इतना सा अहसान कर दो अपने और इस दुनिया के ऊपर... उदास रहना बिलकुल ही हारे और थके हुए लोगो की निशानी है। मै बस इतना कहना चाहता हूँ की आप अपने मौत से पहले मत मरों। जीवन में चाहें आपके साथ कुछ भी हो जाये हमेशा हँसते खेलते रहो।
3. एक कविता आपके साथ शेयर कर रहा हूँ जो हिमेश मदान जी ने लिखी हैं। 

किसी अजनबी से बात कर के देखो, अपनी झिझक से आगे बढ़कर तो देखो,
किसी अनजान को मुस्कुराहट दे के तो देखो, कुछ रूठो को चाहत दे कर तो देखो ,
रोते आये थे पर रोते जायेंगे ऐसा जरुरी नहीं है, ये दुनिया इतनी बुरी नहीं है। 
कुछ पुराने पन्नो को हिला कर तो देखो, अचानक उनको फ़ोन मिला कर तो देखो ,
कुछ जख्म ऐसे साफ कर के तो देखो, रास्ते अलग है पर दिलों दूरी नहीं है ,
ये दुनिया इतनी बुरी नहीं है। 
दोस्ती के हाथ बढ़ा के तो देखो, अपनों को प्यार जता कर तो देखो ,
बिना कारण खुशियाँ मना कर तो देखो, खुद से ही गीत गुनगुना कर तो देखो ,
हर साँस में जिंदगी है, कोई मजबुरी नहीं है, ये दुनिया इतनी बुरी नहीं है ,
ये दुनिया इतनी बुरी नहीं है। 

Read Also :
निवेदन : इस लेख के बारे में आपके क्या विचार हमे जरूर बतायें। शेयर करें अपने दोस्तों और परिवार के साथ, आपने इस लेख पर अपना कीमती समय दिया इसके लिए आपको धन्यवाद।